Fri. Jul 23rd, 2021

👉 Msg prepared by 👈
*ZEBNEWS*

*हिन्दी/hinglish*                             *आयतल कुर्सी*

 

*ⓩ मुस्लिम शरीफ की हदीसे पाक है कि क़ुर्आन की आयतों में सबसे अज़मत वाली आयत आयतल कुर्सी है,इसके बेशुमार फज़ायल हैं चन्द यहां ज़िक्र करता हूं*

*1* मौला अली रज़ियल्लाहु तआला अन्हु से मरवी है कि हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि जो शख्स हर फर्ज़ नमाज़ के बाद आयतल कुर्सी पढ़ेगा तो वो मरते ही फौरन जन्नत में दाखिल होगा

📕 मिश्कात,जिल्द 1,सफह 89

*2* जो कोई जुमा के दिन बाद नमाजे अस्र 313 बार आयतल कुर्सी पढ़े तो ऐसी खैरो बरकत हासिल हो कि क़यास में ना आये और जो कोई हर फर्ज़ नमाज़ के बाद पढ़ता रहे तो मौला तआला उसे शाकिरों का क़ल्ब सिद्दीक़ों का अमल और अम्बिया का सवाब अता फरमायेगा और उसको जन्नत में दाखिल होने से कोई चीज़ माने नहीं यानि मरते ही फौरन जन्नत में जायेगा

📕 वज़ाइफे रज़वियह,सफह 131

*3* अगर मकान में ऊंची जगह कुंदा करदे तो उसके घर में कभी फाक़ा ना होगा रिज़्क़ में खूब बरकत होगी और ना ही कभी उसके घर चोरी होगी

📕 जन्नती ज़ेवर,सफह 460

*4* कोई भी हाजत हो तो बाद नमाज़े फज्र सलाम फेरने के फौरन बाद उसी तरह बैठे बैठे 25 बार और मग़रिब बाद उसी तरह 8 बार आयतल कुर्सी पढ़े इन शा अल्लाह बहुत जल्द मुराद पायेगा,बलगम अगर सीने पर जमा हो गया हो तो सुबह नमक की 7 कंकरियों पर 7,7 बार पढ़कर दम करके खा लें मर्ज़ से इज़ाला होगा,दिमाग की तेज़ी के लिए चीनी की प्लेट पर लिखकर धोकर पियें

📕 आमाले रज़ा,हिस्सा 3,सफह 42-45

*5* अपनी अपने घर की अपने अहलो अयाल की जानो माल इज़्ज़त आबरू की हिफाज़त के लिए सुबह शाम पढ़कर उन पर दम करता रहे,और रात को अव्वल आखिर दरूद शरीफ और 1 बार आयतल कुर्सी पढ़कर खुद पर व घर के तमाम अफराद पर और घर के चारो कोनों पर दम करदे तो सबकी हिफाज़त की ज़िम्मेदारी रब की यहां तक कि उसका घर ही नहीं बल्कि आस पड़ोस के घर भी चोरी से महफूज़ हो जायेंगे इन शा अल्लाह तआला

📕 अलवज़ीफतुल करीमा,सफह 21

*ⓩ दम करने के लिए सबका सामने होना कुछ ज़रूरी नहीं बस तसव्वुर करके दम कर दें युंही पूरे घर का तसव्वुर करके दम करें,आयतल कुर्सी की फज़ीलत में ये रिवायत पढ़िये और एक बहुत काम का मसअला भी समझ लीजिये*

*6* एक मर्तबा हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम ने हज़रत अबु हुरैरह रज़ियल्लाहु तआला अन्हु को सदक़ये फित्र की हिफाज़त के लिए मुक़र्रर किया,एक रात आपने देखा कि एक चोर चंद बोरियां उठाए लिए जा रहा है आपने उसे पकड़ लिया जिस पर वो रोने लगा कि मैं बहुत ग़रीब आदमी हूं मुझे जाने दीजिये,हज़रत अबु हुरैरा रज़ियल्लाहु तआला अन्हु का दिल पिघल गया और आपने उसे छोड़ दिया,दूसरे दिन जब सरकार सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम से मुलाक़ात हुई तो मेरे आक़ा सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम खुद ही इरशाद फरमाते हैं कि ऐ अबू हुरैरह रात वाले चोर का क्या किया,इस पर वो फरमाते हैं कि मुझे रहम आ गया और मैंने उसे जाने दिया तो हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम फरमाते हैं कि वो झूठा है आज फिर आयेगा होशियार रहना,रात को फिर वही चोर आया और पकड़ा गया इस बार फिर उसने रो रोकर दुहाई दी तो फिर से हज़रत अबु हुरैरह रज़ियल्लाहु तआला अन्हु को उस पर रहम आ गया और उसे जाने दिया,फिर दूसरे दिन सरकार ने पूछा कि उस चोर का क्या किया तो वो बोले कि उसने अपनी मोहताजी की शिकायत की तो मैंने उसे छोड़ दिया फिर आक़ा फरमाते हैं कि वो झूठा है आज फिर आयेगा,रात को फिर वही आया और फिर से पकड़ा गया अब हज़रत अबू हुरैरह रज़ियल्लाहु तआला अन्हु ने कहा कि आज तो मैं तुझे हरगिज़ नहीं छोड़ूंगा जब चोर ने जान लिया कि आज निकलना मुश्किल है तो कहने लगा कि अगर आप मुझे छोड़ने का वादा करें तो मैं आपको एक बहुत इल्म वाली बात बताऊं,इस पर हज़रत अबु हुरैरह रज़ियल्लाहु तआला अन्हु तैयार हो गए तो वो बोला कि जब भी आप सोने को बिस्तर पर जाओ तो आयतल कुर्सी पढ़ लिया करो कि इससे अल्लाह तुम्हारी रात भर हिफाज़त फरमायेगा और शैतान तुम्हारे नज़दीक नहीं आ पायेगा,ये सुनकर हज़रत अबु हुरैरह रज़ियल्लाहु तआला अन्हु बहुत खुश हुए और उसे छोड़ दिया,सुबह को रात का सारा वाक़िया आपने हुज़ूर को बताया तो मेरे आक़ा इरशाद फरमाते हैं कि बात तो उसने सच्ची कही मगर है वो बहुत बड़ा झूठा जो पिछली तीन रातों से तुम्हारे पास चोर बनकर आ रहा था वो कोई और नहीं बल्कि इब्लीस था

📕 मिश्कात,जिल्द 1,सफह 177

*ⓩ जैसा कि आपने पढ़ लिया कि हर अच्छी बात करने वाला व नेकी की दावत देने वाला अच्छा ही हो ये कोई ज़रूरी नहीं क्योंकि नेकी की दावत देना सिर्फ मुसलमान ही नहीं करते बल्कि ज़रूरत पड़ने पर शैतान और उसके चेले भी नेकियों की दावत दिया करते हैं मगर इसमें उनका छुपा हुआ मक़सद कुछ और ही होता है,जैसा कि आजकल के बद अक़ीदे वहाबियों का मामूल बन चुका है कि झोला झप्पड़ टांग कर मस्जिदों को नजासत आलूद करने और मुसलमानों का इमान बर्बाद करने के लिए निकल पड़ते हैं,बज़ाहिर तो वो नेकियों की दावत देते हुए दिखाई देते हैं मगर उनका मक़सद सिर्फ और सिर्फ मुसलमानों को गुमराह करना और काफिर बनाना है लिहाज़ा ऐसों से दूर रहने में ही ईमान की भलाई है*

 

—————————————–
*ZEBNEWS Charitable Trust*
*Sadqaye jaariya@30rs. p/m*
—————————————–

 

*ⓩ Muslim sharif ki hadise paak hai ki quran ki aayton me sabse azmat waali aayat aytal kursi hai,iske beshumar fazayal hain chund yahan zikr karta hoon*

*1* Maula Ali raziyallahu taala anhu se marwi hai ki huzoor sallallaho taala alaihi wasallam irshad farmate hain ki jo shakhs har farz namaz ke baad aaytal kursi padhega wo to marte hi fauran jannat me daakhil hoga

📕 Mishkat,jild 1,safah 89

*2* Jo koi juma ke din baad namaze asr 313 baar aytal kursi padhe to aisi khairo barkat haasil ho ki qayaas me na aaye aur jo koi har farz namaz ke baad padhta rahe to maula taala use shaakiron ka qalb siddiqon ka amal aur ambiya ka sawaab ata farmayega aur usko jannat me daakhil hone se koi cheez maane nahin yaani marte hi fauran jannat me jayega

📕 Wazayfe razviyah,safah 131

*3* Agar makaan me oonchi jagah kunda karade to uske ghar me kabhi faaqa na hoga rizq me khoob barkat hogi aur na hi kabhi uske ghar chori hogi

📕 Jannati zevar,safah 460

*4* Koi bhi haajat ho to baad namaze fajr salaam pherne ke fauran baad usi tarah baithe baithe 25 baar aur maghrib baad usi tarah 8 baar aytal kursi padhe in sha ALLAH bahut jald muraad payega,balgum agar seene par jama ho gaya ho to subah namak ki 7 kankariyon par 7,7 baar padhkar dum karke kha lein marz se izaala hoga,dimaag ki tezi ke liye cheeni ki plate par likhkar dhokar piyen

📕 Aamale raza,hissa 3,safah 42-45

*5* Apni apne ghar ki apne ahlo ayaal ki jaano maal izzat aabru ki hifazat ke liye subah shaam padhkar unpar dum karta rahe,aur raat ko awwal aakhir durood sharif aur 1 baar aytal kursi padhkar khud par wa ghar ke tamam afraad par aur ghar ke chaaro kono par dum karde to sabki hifazat ki zimmedari rub ki yahan tak ki uska ghar hi nahin balki aas pados ke ghar bhi chori se mahfooz ho jayenge in sha ALLAH taala,dum karne ke liye sabka saamne hona kuchh zaruri nahin bas tasawwur karke dum kar dein yunhi poore ghar ka tasawwur karke dum karen*

📕 Alwazifatul kareema,safah 21

*ⓩ* Aytal kursi ki fazilat me ye riwayat padhiye aur ek bahut kaam ka masla bhi samajh lijiye

*6* Ek martaba huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ne hazrat abu huraira raziyallahu taala anhu ko sadqaye fitr ki hifazat ke liye muqarrar kiya,ek raat aapne dekha ki ek chor chand boriyan uthaye liye ja raha hai aapne use pakad liya ispar wo rone laga ki main bahu gareeb aadmi hoon mujhe jaane dijiye hazrat abu huraira raziyallahu taala anhu ka dil pighal gaya aur aapne use chhod diya,ddosre din jab sarkar sallallaho taala alaihi wasallam se mulaqat huyi to mere aaqa sallallaho taala alaihi wasallam khud hi irshad farmate hain ki ai abu huraira raat waale chor ka kya kiya,ispar wo farmate hain ki mujhe raham aa gaya aur maine use jaane diya to huzoor sallallaho taala alaihi wasallam farmate hain ki wo jhootha hai aaj fir aayega hoshiyar rahna,raat ko fir wahi chor aaya aur pakda gaya is baar fir usne ro rokar duhayi di to fir se hazrat abu huraira raziyallahu taala anhu ko uspar raham aa gaya aur use jaane diya,fir doosre din sarkaar ne poochha ki us chor ka kya kiya to wo bole ki usne apni mohataaji ki shikayat ki to maine use chhod diya fir aaqa farmate hain ki wo jhootha hai aaj fir aayega,raat ko fir wahi aaya aur fir se pakda gaya ab hazrat abu huraira raziyallahu taala anhu ne kaha ki aaj to main tujhe hargiz nahin chhodunga jab chor ne jaan liya ki aaj nikalna mushkil hai to kahne laga ki agar aap mujhe chhodne ka waada karen to main aapko ek bahut ilm waali baat bataoon ispar hazrat abu huraira raziyallahu taala anhu taiyar ho gaye to wo bola ki jab bhi aap sone ko bistar par jao to AAYTAL KURSI liya karo ki isse ALLAH tumhari raat bhar hifazat farmayega aur shaitan tumhare nazdeek nahin aa payega,ye sunkar hazrat abu huraira raziyallahu taala anhu bahut khush hue aur use chhod diya,subah ko raat ka saara waaqiya aapne huzoor ko bataya to mere aaqa irshaad farmate hain ki baat to usne sachchi kahi magar hai wo bahut bada jhootha jo pichhli teen raaton se tumhare paas chor bankar aa raha tha wo aur koi nahin balki iblees tha

📕 Mishkat,jild 1,safah 177

*ⓩ Jaisa ki aapne padh liya ki har achchhi baat karne waala wa neki ki daawat dene waala achchha hi ho koi zaruri nahin Aur neki ki daawat dena sirf musalman hi nahin karte balki zarurat padne par shaitan aur uske chele bhi nekiyon ki daawat diya karte hain magar isme unka chhupa hua maqsad kuchh aur hi hota hai,jaisa ki bad aqeede wahabiyon ka mamool ban chuka hai ki jhola jhappad taang kar masjidon ko najasat aalood karne aur musalmano ka imaan barbaad karne ke liye nikal padte hain,bazahir to wo nekiyon ki daawat dete hue dikhayi dete hain magar isme unka maqsad sirf aur sirf musalman ko gumrah karna aur kaafir banana hai lihaza aiso se door rahne me hi imaan ki bhalayi hai*

 

NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

By Zebnews

2 thoughts on “FAZAYAL-E AYTAL KURSI”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *