Fri. Jul 23rd, 2021

👉 MSG prepared by 👈
*ZEBNEWS*

*हिन्दी/hinglish*                                       *दुरूदे पाक*

1⃣ जो कोई एक बार दुरूदे पाक पढ़ता है तो उसके दुरूद से एक परिंदा पैदा होता है जिसके 70000 बाज़ू हैं हर बाज़ू में 70000 पर हैं हर पर में 70000 चेहरे हैं हर चेहरे में 70000 मुहं हैं हर मुहं में 70000 ज़बान है और वो हर ज़बान से 70000 बोलियों में रब की तस्बीह पढ़ता है और इन तमाम तस्बीहों का सवाब उस पढ़ने वाले के नामये आमाल में लिखा जाता है

📕 नूर से ज़हूर तक,सफह 15

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

2⃣ जो नबी पर एक बार दुरूद शरीफ पढ़े तो मौला तआला उस पर 10 रहमते नाज़िल फरमायेगा उसके 10 गुनाह मिटा देगा और उसके 10 दर्जे बुलन्द करेगा और दूसरी रिवायत में है कि मौला और उसके फरिश्ते उस पर 70 मर्तबा दुरूद पढ़ते हैं

📕 बहारे शरीयत,हिस्सा 3,सफह 76

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

3⃣ जो रोज़ाना 100 बार नबी करीम सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम पर दुरूदे पाक पढ़े और शहादत की तमन्ना रखे तो वह शहीद मरेगा

📕 बहारे शरीयत,हिस्सा 4,सफह 174

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

4⃣ जो कोई दिन भर में 1000 बार दुरूद शरीफ पढ़ेगा तो वो उस वक़्त तक नहीं मरेगा जब तक की अपनी जगह जन्नत में ना देख ले

📕 खज़ीनये दुरूद शरीफ,सफह 14

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

5⃣ जब भी जहां भी और जितनी बार भी नबी करीम सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम का नाम मुबारक आये तो हर बार आप पर दुरूदे पाक पढ़ना बाज़ उल्मा के नज़दीक वाजिब है और ऐसा ना करने वालों पर सख्त वईदें आई है

📕 बहारे शरीअत,हिस्सा 1,सफह 21

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

6⃣ हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम फरमाते हैं कि जिसने रमज़ान पाया और अपनी बख्शिश ना करा सका वो हलाक हुआ जिसने अपने वालिदैन को पाया और उनकी खिदमत करके अपनी बख्शिश ना करा सका वो हलाक हुआ और जिसके पास मेरा ज़िक्र हुआ और उसने मुझपर दुरूद ना पढ़ा वो हलाक हुआ

📕 बहारे शरीअत,हिस्सा 5,सफह 97

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

7⃣ बाज़ लोग हिंदी में नामे अक़्दस के आगे बजाये सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम लिखने के सिर्फ सल्ल0 लिखते हैं या अंग्रेजी में s.a.w और उर्दू में ص ل ع م लिख देते हैं ऐसा करना सख्त नाजायज़ो हराम है

📕 बहारे शरीअत,हिस्सा 1,सफह 21

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

8⃣ हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम फरमाते हैं कि जिसने मेरे नाम के साथ दुरूदे पाक लिखा तो जब तक वो वहां लिखा रहेगा फरिश्ते उसके लिए मग़फिरत की दुआ करते रहेंगे और उसका सवाब जारी रहेगा

📕 कुर्बे मुस्तफा,सफह 79-80

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

9⃣ जिसने दुआ के अव्वल और आखिर में दुरूद शरीफ पढ़ा तो उसकी दुआ रद्द नहीं की जाती

📕 क़ुर्बे मुस्तफा,सफह 75

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

🔟 जिसने दुरूदे पाक को ही अपना वज़ीफा बना लिया तो ये उसकी दुनिया और आखिरत के लिए तन्हा काफी है और उसको दूसरे किसी वज़ीफे की जरूरत नहीं है

📕 बहारे शरीयत,हिस्सा 3,सफह 77

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

*हदीसे पाक में आता है कि इल्म फैलाने वाले के बराबर कोई आदमी सदक़ा नहीं कर सकता*

📕 क़ुर्बे मुस्तफा,सफह 100

——————————————————-

1⃣ Jo koi ek baar durude paak padhta hai to uske durood se ek parinda paida hota hai jiske 70000 baazu hain har baazu me 70000 par hain har par me 70000 chehre hain har chehre me 70000 munh hai har munh me 70000 zabaan hai aur wo har zabaan se 70000 boliyon me rub ki tasbih padhta hai aur in tamam tasbihon ka sawab us padhne waale ke naamaye aamaal me likha jaata hai

📕 Noor se zahoor tak,safah 15

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

2⃣ Jo nabi par ek baar durude paak padhe to maula taala uspar 10 rahmate naazil farmayega aur uske 10 gunaah mita dega aur uske 10 darje buland kar dega aur doosri riwayat me aata hai ki maula aur uske farishte uspar 70 martaba durood padhte hain

📕 Bahare shariyat,hissa 3,safah 76

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

3⃣ Jo rozana 100 baar nabi kareem sallallaho taala alaihi wasallam par durude paak padhe aur shahadat ki tamanna rakhe to wo shaheed marega

📕 Bahare shariyat,hissa 4,safah 174

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

4⃣ Jo koi din bhar me 1000 baar durood padhega to wo us waqt tak nahin marega jab tak ki wo apni jagah jannat me na dekh le

📕 Khazinaye durood sharif,safah 14

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

5⃣ Jab bhi jahan bhi aur jitni baar bhi huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ka naam mubarak aaye to har baar aap par durude paak padhna baaz ulma ke nazdeek waajib hai aur aisa na karne par sakht wayeed aayi hai

📕 Bahare shariyat,hissa 1,safah 21

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

6⃣ Huzoor Sallallaho taala alaihi wasallam farmate hain ki jisne ramzan paaya aur apni bakhshish na kara saka to wo halaak hua aur jisne apne waalidain ko paaya aur unki khidmat karke apni bakhshish na kara saka to wo halaak hua aur jiske saamne mera zikr hua aur usne mujh par durood na padha to wo halaak hua

📕 Bahare shariyat,hissa 5,safah 97

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

7⃣ Baaz log naame aqdas ke aage bajaye sallallaho taala alaihi wasallam poora likhne ke hindi me सल्ल0 ya english me s.a.w ya urdu me ص ل ع م likh dete hain aisa karna sakht najayzo haraam hai

📕 Bahare shariyat,hissa 1,safah 21

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

8⃣ Huzoor sallallaho taala alaihi wasallam farmate hain ki jisne mere naam ke saath durude paak likha to jab tak wo wahan likha rahega farishte uske liye magfirat ki dua karte rahenge aur uska sawab jaari rahega

📕 Qurbe mustafa,safah 79-80

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

9⃣ Jisne dua ke awwal wa aakhir me durude paak padha to uski dua radd nahin ki jaati

📕 Qurbe mustafa,safah 75

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

🔟 Jisne durude paak ko hi apna wazifa bana liya to ye uski duniya aur aakhirat ke liye tanha kaafi hai aur usko kisi doosre wazife ki zarurat nahin hai

📕 Bahare shariyat,hissa 3,safah 77

صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

*Hadise paak me aata hai ki ilm failane waale ke barabar koi aadmi sadqa nahin kar sakta*

📕 Qurbe mustafa,safah 100

*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *