Fri. Jul 23rd, 2021

👉 *Msg prepared by* 👈
*ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ*
*16/10/1442*

*हिन्दी/hinglish* *बैतुल मुक़द्दस-4*
*================================*
*youtube : चैनल सब्सक्राइब करने में पैसा नहीं लगता तो प्लीज़ चैनल सब्सक्राइब करें*

*https://www.youtube.com/channel/UCedqG8o3wtFOEZ60oOaLwzw*

*website : Visit for all ZEBNEWS msgs*

*zebnews.in*
*================================*
*================================*

* ताबूते सकीना जिसमें हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम का जिस्मे अक़दस व उनके कपड़े और कुछ दीग़र तबर्रुकात रखे थे जो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम मिश्र से निकलते हुए अपने साथ लाये थे,हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम की ज़बरदस्त ख्वाहिश थी कि आप एक ऐसा घर बनाएं कि जिसमें ये महफ़ूज़ रहे मगर अल्लाह ने उनको बताया कि ये घर तुम नहीं बल्कि तुम्हारा बेटा बनायेगा,इस खबर से आप बद दिल नहीं हुए बल्कि हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम के लिए ज़रूरी सामान मुहय्या कराने में लग गए और हर ज़रुरियात का सामान एक जगह इकठ्ठा होने लगा जैसे कि सोना चांदी लोहा पीतल लकड़ी खूबसूरत नक्काशी दार पत्थर वगैरह,अपने आख़िरी वक़्त में आपने हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम को आलमे रूया में देखा हुआ हैकल का नक्शा भी बताया कि कहां क्या बनना है,फिर जब हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम का विसाल हुआ और हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम तख़्त पर बैठे तो आपने हैकल की तामीर वहीं शुरू की जहां हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम ने निशान देही कराई थी,चुंकि आप जानते थे कि आपकी कौम में बेहतरीन कारीगर मौजूद नहीं हैं इसलिए आपने लेबनान व मिस्र से 2 लाख कारीगर बुलवाए जिसकी तामीर अगले 7 सालों तक चलती रही,हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम ने विरासत में तक़रीबन 4559531 किलो सोना और 576062 किलो चांदी छोड़ी थी ये पूरा माल और इसके अलावा 7 सालों का रेवेन्यु और जो कुछ भी नज़राना मिला सब कुछ इसको बनाने में लग गया गर्ज़ कि बे इंतिहा दौलत खर्च हुई,हैकल सुलेमानी उस वक़्त का अज़ीम शाहकार था जिसकी लम्बाई 90 फीट चौड़ाई 30 फीट और ऊंचाई 45 फिट थी और उसके अंदर एक पाक मक़ाम पर ताबूते सकीना रखा गया लेकिन बख़्ते नस्र के हमले के वक़्त वो ताबूत ऐसा गायब हुआ कि आज तक किसी को खबर न हुई कि वो कहां गया

इसके अलावा हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम ने सुलेमानी महल बनवाया जो हैकले सुलेमानी के बाद दूसरी अज़ीम बिल्डिंग थी इसकी लम्बाई 150 फीट चौड़ाई 75 फीट और ऊंचाई 45 फीट और ये 3 मंजिला इमारत थी,चुंकि आप नबी होने के साथ साथ बादशाह भी थे इसलिए आपके महल में ग़ुलामों की तादाद 1000 से भी ज़्यादा थी खाने की मेज़ और बर्तन सोने और चांदी के थे,उनकी शानो शौकत ने पूरी दुनिया को मुतहय्यर कर दिया और मलिकाये सबा भी आपसे मिलने को आपके मुल्क रवाना हुईं जो अपने साथ नज़राने में 120 कुंतल सोना बेशुमार हीरे जवाहरात और ऐसी अज़ीम खुशबु लेकर आई थीं कि तारीख बताती है कि बैतुल मुक़द्दस में उसके बाद कभी ऐसी खुशबू नहीं महकी

आपके दौर में पक्की सड़कें बनायी गयी ढेरो चश्मे व हौज़ बनाए गए जिसमे केनरी का चश्मा आज भी दौरे सुलेमानी की याद दिलाता है,एक समंदरी बेड़ा बनाया गया जो कि हरक्युलस के रिवायती शहर तक पहुंच सके और जब कोलंबस ने उत्तरी अमेरिका की खोज की तो उसका ख्याल था कि हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम का खज़ाना वेस्ट इंडीज़ है,हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम के दौर में बैतुल मुक़द्दस एक अज़ीम तिजारती शहर बन चुका था और सल्तनते इज़राईल अपने उरूज पर थी

📕 बैतुल मुक़द्दस,सफह 13-17

* अब तक 4 ऐसे बादशाह गुज़रे हैं जिन्होंने पूरी दुनिया पर हुक़ूमत की है दो मोमिन हज़रत सिकंदर ज़ुलरनैकन और हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम और दो काफिर नमरूद और बख्ते नस्र,और अनक़रीब पांचवे बादशाह हज़रत इमाम मेंहदी रज़ियल्लाहु तआला अन्हु होंगे जो पूरी दुनिया पर हुक़ूमत करेंगे,जिस सिकन्दर का किस्सा हम लोगों ने दुनियावी इतिहास की किताबों मे पढ़ा है वो सिकन्दर युनानी था जो कि काफिरो मुशरिक था मगर सिकन्दर ज़ुलरनैकन दूसरे हैं आप सालेह मोमिन थे

📕 अलइतक़ान,जिल्द 2,सफह 178

*================================*
*To Be Continued*
*================================*

* Taboote sakeena jisme hazrat yusuf alaihissalam ka jisme aqdas wa unke kapde aur kuchh deegar tabarrukat rakhe the jo hazrat moosa alaihissalam misr se nikalte hue apne saath laaye the,hazrat daood alaihissalam ki zabardast khwahish thi ki aap ek aisa ghar banayein ki jisme ye mahfooz rahe magar ALLAH ne unko bataya ki ye ghar tum nahin balki tumhara beta banayega,is khabar se aap bad dil nahin hue balki hazrat suleman alaihissalam ke liye zaruri saaman muhaiyya karane me lag gaye aur har zaruriyaat ka saaman ek jagah ikattha hone laga jaise ki sona chandi loha peetal lakdi khoobsurat nakkashi daar patthar wagairah,apne aakhiri waqt me aapne hazrat suleman alaihissalam ko aalame rooya me dekha hua haikal ka naksha bhi bataya ki kahan kya banana hai,phir jab hazrat daood alaihissalam ka wisaal hua aur hazrat suleman alaihissalam takht par baithe to aapne haikal ki tameer wahin shuru ki jahan hazrat daood alaihissalam ne nishan dehi karayi thi,chunki aap jaante the ki aapki qaum me behtareen kareegar maujood nahin hain isliye aapne lebnan wa misr se 2 laakh kareegar bulwaye jiski tameer 7 saalo tak chalti rahi,hazrat daood alaihissalam ne wirasat me taqriban 4559531 kilo sona aur 576062 kilo chandi choodi thi ye poora maal aur iske alawa 7 saalo ka revenue aur jo kuchh bhi nazraana mila sab kuchh isko banane me lag gaya garz ki be intiha daulat kharch huyi,haikal sulemani us waqt ka azeem shahkaar tha jiski lambayi 90 fitt chaudayi 30 fitt aur unchayi 45 fitt thi aur uske andar ek paak maqaam par taboote sakeena rakha gaya lekin bakhte nasr ke hamle ke waqt wo taboot aisa gaayab hua ki aaj tak kisi ko khabar na huyi ki wo kahan gaya

Iske alawa hazrat suleman alaihissalam ne sulemani mahal banwaya jo haikale sulemani ke baad doosri azeem building thi iski lambayi 150 fitt chaudayi 75 fitt aur unchayi 45 fitt aur ye 3 manzila imaarat thi,chunki aap nabi hone ke saath saath baadshah bhi the isliye aapke mahal me ghulamo ki taadaad 1000 se bhi zyada thi khaane ki mez aur bartan sone aur chandi ke the,unki shaano shaukat ne poori duniya ko mutahayyar kar diya aur malikaye saba bhi aapse milne ko aapke mulk rawana huyi jo apne saath nazraane me 120 quntal sona beshumar heere jawahraat aur aisi azeem khushbu lekar aayi thin ki tareekh batati hai ki baitul muqaddas me uske baad kabhi aisi khushbu nahin mahki

Aapke daur me pakki sadkein banayi gayi dhero chasme wa hauz banaye gaye jisme kenari ka chashma aaj bhi daure sulemani ki yaad dilata hai,ek samandari beda banaya gaya jo ki hercules ke riwayti shahar tak pahunch sake aur jab columbus ne uttari america ki khoj ki to uska khayal tha ki hazrat suleman alaihissalam ka khazana west indies hai,hazrat suleman alaihissalam ke daur me baitul muqaddas ek azeem tijarati shahar ban chuka tha aur sultanate israel apne urooj par thi

📕 Baitul Muqaddas,Safah 13-17

*Ab tak 4 aise baadshah guzre hain jinhone poori duniya par huqumat ki hai 2 momin hazrat sikandar zulqarnain aur hazrat suleman alaihissalam aur 2 kaafir namrood aur bakhte nasr,aur anqareeb paanchwe baadshah hazrat imam menhdi raziyallahu taala anhu honge jo poori duniya par huqumat karenge,jis sikandar ka kissa hum logon ne duniyavi itihaas ki kitabon me padha hai wo sikandar unani tha jo ki kaafiro mushrik tha magar sikandar zulkarnain doosre hain aur aap saaleh momin the

📕 Alitqaan,jild 2,safah 178

*================================*
*Don’t Call Only WhatsApp 9559893468*
*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*
*================================*

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *