Tue. Jun 15th, 2021

👉 *Msg prepared by* 👈
*ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ*
*15/10/1442*

*हिन्दी/hinglish* *बैतुल मुक़द्दस-3*
*================================*
*youtube : चैनल सब्सक्राइब करने में पैसा नहीं लगता तो प्लीज़ चैनल सब्सक्राइब करें*

*https://www.youtube.com/channel/UCedqG8o3wtFOEZ60oOaLwzw*

*website : Visit for all ZEBNEWS msgs*

*zebnews.in*
*================================*
*================================*

* बैतुल मुक़द्दस पर पहला हमला क़ब्ले ईसा 1251 में यशुअ बिन नून ने किया उस वक़्त जो पांच हुक्मरान थे वो सबके सब मारे गए,उसके बाद उनके अंदर ताक़त का नशा इस कदर चढ़ा कि वो सब गुमराह हो गए और यबूसियों ने मौक़ा पाकर उन्हें उनके ही शहर से निकाल कर अजनबी बन दिया,उस दौर में सिर्फ क़ाज़ी ही हुक्मरान हुआ करते थे मगर वो भी अवाम की तरह ही बद आमालियों में बराबर के शरीक रहे,फिर हज़रत शमवील अलैहिस्सलाम को अल्लाह ने उनके बीच मबऊस फरमाया और उन्होंने क़ौम को बुत परस्ती और दीगर बद कारियों से दूर कराया जब आप अपनी आख़िरी मंज़िल को पहुंचे तो बनी इस्राईल के कहने पर आपने हज़रत तालूत को जांनशीन मुंतखिब करके राहे आख़िरत की तरफ रवाना हुए,तालूत की ज़िन्दगी जंगो में ही गुज़री उन्ही की फ़ौज का एक जवान जिसने अपने तलवार के जौहर से उस वक़्त के सबसे बड़े दुश्मन जालूत को क़त्ल किया ये जवान और कोई नहीं बल्कि हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम थे

📕 बैतुल मुक़द्दस,सफह 13

* जालूत एक जाबिर ताक़त वर बहुत बड़े क़द का आदमी था,तालूत ने उससे जंग करने के लिए बनी इस्राईल से 70000 आदमियों का इंतिखाब किया उसी में हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम भी शामिल हो गए चुंकि उस वक़्त आप बीमार थे इसलिए आप सबके पीछे ही रहते,जब बनी इस्राईल जालूत के सामने पहुंचे तो उसकी क़द क़ामत देखकर घबरा गए और पीछे हट गए इसको देखकर तालूत ने ये ऐलान किया कि तुममें से जो कोई भी जालूत का क़त्ल करेगा उससे मैं अपनी बेटी का निकाह करूँगा और उसे आधा मुल्क भी दूंगा,फिर जब हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम ने जालूत का क़त्ल इस तरह किया कि उस वक़्त आपके पास फलाखीन यानि पत्थर फेंकने का आला था उसमें पत्थर रखकर जब आपने जालूत की तरफ मारा तो वो क़हरे इलाही की मार बन गया और पत्थर जालूत की पेशानी में घुसकर उसे चीरता हुआ पीछे से निकल गया और वो वहीं ढेर हो गया,इस तरह तालूत बादशाह की बेटी आपके निकाह में आयी और आधा मुल्क भी,फिर तालूत के इंतेकाल के बाद पूरे मुल्क की बागडोर आपके हाथ में आ गयी और अलग अलग रिवायतों में 70 या 40 या 33 साल आपने वहां बादशाहत की

जब आप बादशाह बने तो अपने क़ौम की ख़़बर गीरी के लिए भेस बदलकर शहरोंं में घूमते और अपने लिए अपनी क़ौम की राये जानने की कोशिश करते तो आपको जो मिलता आप उससे पूछते कि दाऊद कैसा है और उसकी हुकूमत में सब ठीक ठाक है लोग आपकी तारीफ करते और आप आगे बढ़ जाते,एक दिन अल्लाह ने एक फ़रिश्ता इंसान की शक्ल में भेजा जब आपने उससे पूछा तो वो बोला कि सब कुछ तो उनमे ठीक है बस एक बात और कर लें तो सारी खूबियां उनमे आ जायेगी आपने हसरत से उससे पूछा कि जल्दी बताओ कि उसे क्या करना चाहिए तो वो बोला कि वो अपना और अपने घर का खर्च बैतुल माल से लेते हैं उन्हें चाहिए कि ऐसा न करें,जब आपने ये सुना तो फौरन रब की बारगाह में दुआ की कि ऐ मौला मुझे कोई ऐसा हुनर अता फरमा कि जिससे मैं अपने घर के लिए रिज़्क़ कमा सकूं तो आपकी दुआ क़ुबूल हुई और मौला तआला ने लोहे को आपके लिए नर्म फरमा दिया इस तरह कि आप बिना आग और बिना ठोके पीटे लोहे को अपने हाथों से मोम की तरह मोड़कर ज़िरह बना लेते थे,आप रोज़ाना 1 ज़िरह बनाते और वो रिवायते दीग़र 4000 या 6000 में बिकती आप 2000 अपने घर में खर्च करते और 4000 फ़ुक़रा व मसाकीन पर

📕 तफ़्सीरे नईमी,जिल्द 2,सफह 556
📕 ख़ज़ाईनुल इरफ़ान,पारा 22,रुकू 18

*================================*
*To Be Continued*
*================================*

* Baitul muqaddas par pahla hamala qable eesa 1251 me yashu bin noon ne kiya us waqt jo paanch hukmraan the wo sabke sab maare gaye,uske baad unke andar taaqat ka nasha is qadar chadha ki wo sab gumrah ho gaye aur yabusiyon ne mauqa paakar unhein unke hi shahar se nikaal kar ajnabi ban diya,us daur me sirf qaazi hi hukmraan hua karte the magar wo bhi awaam ki tarah hi bad aamaliyon me barabar ke shareek rahe,phir hazrat shamweel alaihissalam ko ALLAH ne unke beech maboos farmaya aur unhone qaum ko but parashti aur deegar bad kariyon se door karaya jab aap apni aakhiri manzil ko pahunche to bani israyeel ke kahne par aapne hazrat taloot ko janasheen muntakhib karke raahe aakhirat ki taraef rawana hue,taloot ki zindagi jungo me hi guzri unhi ki fauj ka ek jawaan jisne apne talwaar ke jauhar se us waqt ke sabse bade dushman jaloot ko qatl kiya ye jawaan aur koi nahin balki hazrat daood alaihissalam the

📕 Baitul Muqaddas,Safah 13

* Jaloot ek jaabir taaqat war bahut bade qad ka aadmi tha,taloot ne usse jung karne ke liye bani israyeel se 70000 aadmiyon ka intikhab kiya usi me hazrat daood alaihissalam bhi shaamil ho gaye chunki us waqt aap beemar the isliye aap sabke peechhe hi rahte,jab bani israyeel jaloot ke saamne pahunche to uski qad qaamat dekhkar ghabra gaye aur peechhe hat gaye isko dekhkar taloot ne ye elaan kiya ki tumme se jo koi bhi jaloot ka qatl karega usse main apni beti ka nikah karunga aur use aadha mulk bhi doonga,phir jab hazrat daood alaihissalam ne jaloot ka qatl is tarah kiya ki us waqt aapke paas falakhin yaani patthar phenkne ka aala tha usme patthar rakhkar jab aapne jaloot ki taraf maara to wo kahre ilaahi ki maar ban gaya aur patthar jaloot ki peshani me ghuskar use cheera hua peeche se nikal gaya aur wo wahin dher ho gaya,is tarah aap taloot baadshah ki beti aapke nikah me aayi aur aadha mulk bhi,phir taloot ke inteqal ke baad poore mulk ki baagdor aapke haath me aa gayi aur alag alag riwayton me 70 ya 40 ya 33 saal aapne wahan baadshahat ki

Jab aap baadshah bane to apne qaum ki khabar geeri ke liye bhes badalkar shahro me ghoomte aur apne liye apni qaum ki raaye jaanne ki koshish karte to aapko jo milta aap usse poochhte ki daood kaisa hai aur uski hukumat me sab theek thaak hai log aapki tareef karte aur aap aage badh jaate,ek din ALLAH ne ek farishta insaan ki shakl me bheja jab aapne usse poochha to wo bola ki sab kuchh to unme theek hai bas ek baat aur kar lein to saari khubiyan unme aa jayengi aapne hasrat se usse poochha ki jaldi batao ki use kya karna chahiye to wo bola ki wo apna aur apne ghar ka kharch baitul maal se lete hain unhein chahiye ki aisa na karen,jab aapne ye suna to fauran Rub ki baargah me dua ki ki ai maula mujhe koi aisa hunar ata farma ki jisse main apne ghar ke liye rizq kama sakun to aapki dua qubool huyi aur maula ne lohe ko aapke liye narm farma diya is tarah ki aap bina aag aur bina thoke peete lohe ko apne haathon se mom ki tarah modkar zirah bana lete the,aap rozana 1 zirah banate aur wo riwayate deegar 4000 ya 6000 me bikti aap 2000 apne ghar me kharch karte aur 4000 fuqra wa masakeen par

📕 Tafseere Nayimi,Jild 2,Safah 556
📕 Khazainul Irfan,Paara 22,Ruku 18

*================================*
*Don’t Call Only WhatsApp 9559893468*
*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*
*================================*

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *