Tue. Jun 15th, 2021

👉 *Msg prepared by* 👈
*ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ*
*13/10/1442*

*हिन्दी/hinglish* *बैतुल मुक़द्दस-2*
*================================*
*youtube : चैनल सब्सक्राइब करने में पैसा नहीं लगता तो प्लीज़ चैनल सब्सक्राइब करें*

*https://www.youtube.com/channel/UCedqG8o3wtFOEZ60oOaLwzw*

*website : Visit for all ZEBNEWS msgs*

*zebnews.in*
*================================*
*================================*

* हदीस शरीफ में है कि बैतुल मुक़द्दस कअबा मुअज़्ज़मा के 40 साल बाद वजूद में आया

📕 बुखारी शरीफ,जिल्द 1,सफह 477

मगर इब्तिदाई दौर की मअलूमात फराहम न हो सकी किताबों में सबसे पहले जिस क़ौम के आबाद होने का ज़िक्र मिलता है वो क़ब्ले मसीह 2500 में आले साम थी,ये क़ौम अरब से हिजरत करके यहां आयी थी और इनमे एक क़ौम मजूसियों के नाम से मशहूर थी,क़ब्ले मसीह 2008 में हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम हिब्रून के मक़ाम पर पहुंचे जिसे आपकी निस्बत से अलख़लील भी कहा जाता है,धीरे धीरे हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम की ताक़त व क़ूव्वत इस शहर पर बढ़ती गयी फिर जब दमिश्क़ के बादशाहों ने हज़रते लूत अलैहिस्सलाम की शान में गुस्ताखी की जो कि अर्दन में मुक़ीम थे तो आपने उन बादशाहों से जंग लड़ी और उनको पीछे हटने पर मजबूर कर दिया,और जब आप फतह करके लौटे तो बैतुल मुक़द्दस के शाह जिसका नाम यबूसी था उसने आपका इस्तेक़बाल किया,यही वो जगह थी जहां से हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम ने हज़रते हाजिरा व हज़रत इस्माईल अलैहिस्सलाम को वादिये फ़ारान में छोड़ा था,हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम की उम्र 175 साल हुई और यहीं वादिये हिब्रून में आपका मज़ार शरीफ बना

आपके विसाल के 40 साल बाद हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम ने बैतुल मुक़द्दस के एक मक़ाम पर बैते ईल बनाया और सदियों बाद इसी खंडरात पर हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम ने हैकल की इमारत उठाई,हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम अपने भाई औदम के खौफ से वहां से हिजरत कर गए थे और कई सालों बाद जब आप लौटे तो आप इस्राईल के नाम से मशहूर हो चुके थे यही वजह थी कि आपकी कौम को बनी इस्राईल कहा जाता है,औदम के बेटे का नाम हज़रत अय्यूब अलैहिस्सलाम है,हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम ने बैते ईल में ख्वाब में रब का दीदार किया और उस जगह एक निशानी बना दी,आपके बाद आपके बेटे हज़रत यूसुफ़ अलैहिस्सलाम जब बादशाह बने तो आप और आपकी कौम यही मुन्तक़िल हो गयी और इस जगह को खूब उरूज हासिल हुआ,आपके बाद आपकी क़ौम इधर उधर मुन्तक़िल हो गयी और 400 साल बाद अल्लाह ने उनपर रहम फरमाया कि हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम मिस्र में मबऊस हुए,आपने फिरऔन के चंगुल से उन लोगों को निजात दिलाई फिरऔन को दरियाये नील में गर्क कराया बा वजूद इसके वो नाफरमानी करते रहे और बुत परस्ती में मुब्तिला हो गए,बनी इस्राईल के गुनाहों की मौला तआला ने उन्हें ये सज़़ा दी कि वो वादिये तीह में फंस गए और उसी में 40 साल का अरसा गुज़़ार दिया यहां तक कि उनके बच्चे जवान हो गए,और तक़रीबन 200 साल बाद दोबारा उनको बैतुल मुक़द्दस में जाने का मौक़ा मिला

📕 बैतुल मुक़द्दस,सफह 10-12

* हज़रत आदम अलैहिस्सलाम से लेकर हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम तक तमाम नबियों का क़िब्ला काबा ही रहा और हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम से लेकर हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम तक क़िब्ला बैतुल मुक़द्दस रहा,बल्कि इस्लाम में भी 1 साल साढ़े 5 महीने बैतुल मुक़द्दस ही क़िब्ला रहा फिर 15 रजब 2 हिजरी पीर के दिन तहवीले क़िब्ला का हुक्म आया और काबा मुअज़्ज़मा क़िब्ला हो गया,शहरे मदीना से 2 किलोमीटर जानिबे शिमाल मग़रिब क़बीला बनी सलमा की एक मस्जिद में हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम ज़ुहर की नमाज़ पढ़ा रहे थे और 2 रकात हो चुकी थी कि ऐन नमाज़ की हालत में वही आ गयी और हुज़ूर ने अपना रुख बैतुल मुक़द्दस से फेरकर काबा मुअज़्ज़मा की तरफ़ कर लिया,तबसे इस मस्जिद को मस्जिदे क़िब्लतैन कहा जाने लगा यानि दो क़िब्लों वाली मस्जिद

📕 तफ़सीरे नईमी,जिल्द 2,सफह 5
📕 सीरते मुस्तफा,सफह 156

*================================*
*To Be Continued*
*================================*

* Hadees sharif me hai ki baitul muqaddas kaaba muazzama ke 40 saal baad wajood me aaya

📕 Bukhari Sharif,Jild 1,Safah 477

Magar ibtidayi daur ki malumaat faraham na ho saki kitabon me sabse pahle jis qaum ke aabad hone ka zikr milta hai wo qable maseeh 2500 me aale saam thi,ye qaum arab se hijrat karke yahan aayi thi aur inme ek qaum majusiyo ke naam se mashhoor thi,qable maseeh 2008 me hazrat ibraheem alaihissalam hibroon ke maqaam par pahunche jise aapki nisbat se Alkhaleel bhi kaha jaata hai,dheere dheere hazrat ibraheem alaihissalam ki taaqat wa qoowat is shahar par badhti gayi phir jab damishq ke baadshaho ne hazrate loot alaihissalam ki shaan me gustakhi ki jo ki ardan me muqeem the to aapne un baadshaho se jung ladi aur unko peechhe hatne par majboor kar diya,aur jab aap fatah karke laute to baitul muqaddas ke shah jiska naam yabusi tha usne aapka isteqbaal kiya,yahi wo jagah thi jahan se hazrat ibraheem alaihissalam ne hazrate hajira wa hazrat ismayeel alaihissalam ko waadiye faaran me chhoda tha,hazrat ibraheem alaihissalam ki umr 175 saal huyi aur yahi waadiye hibroon me aapka mazaar sharif bana

Aapke wisaal ke 40 saal baad hazrat yaqoob alaihissalam ne baitul muqaddas ke ek maqaam par BAIT-E EEL banaya aur sadiyon baad isi khandraat par hazrat suleman alaihissalam ne haikal ki imaarat uthayi,hazrat yaqoob alaihissalam apne bhai audam ke khauff se wahan se hijrat kar gaye the aur kayi saalo baad jab aap laute to aap israyeel ke naam se mashhoor ho chuke the yahai wajah thi ki aapki qaum ko bani israyeel kaha jaata hai,audam ke bete ka naam hazrat ayyoob alaihissalam hai,hazrat yaqoob alaihissalam ne baite eel me khwab me Rub ka deedar kiya aur us jagah ek nishani bana di,aapke baad aapke bete hazrat yusuf alaihissalam jab baadshah bane to aap aur aapki qaum yahi muntaqil ho gayi aur is jagah ko khoob urooj haasil hua,aapke baad aapki qaum idhar udhar muntaqil ho gayi aur 400 saal baad ALLAH ne unpar raham farmaya ki hazrat moosa alaihissalam misr me maboos hue,aapne firaun ke changul se un logon ko nijaat dilayi firaun ko dariye neel me gark karaya ba wajood iske wo nafarmani karte rahe aur but parasti me mubtela ho gaye,bani israyeel ke gunaho ki maula taala ne unhein ye saza di ki wo waadiye teeh me phans gaye aur usi me 40 saal ka arsa guzaar diya yahan tak ke unke bachche jawaan ho gaye,aur taqriban 200 saal baad dobara unko baitul muqaddas me jaane ka mauqa mila

📕 Baitul Muqaddas,Safah 10-12

* Hazrat aadam alaihissalam se lekar hazrat daood alaihissalam tak tamam nabiyon ka qibla kaaba hi raha aur hazrat suleman alaihissalam se lekar hazrat eesa alaihissalam tak qibla baitul muqaddas raha,balki islam me bhi 1 saal saadhe 5 mahine baitul muqaddas hi qibla raha fir 15 rajab 2 hijri peer ke din tahweele qibla ka hukm aaya aur kaaba muazzama qibla ho gaya,shahre madina se 2 kilometer jaanibe shimal maghrib qabilaye bani salma ki ek masjid me huzoor salllalaho taala alaihi wasallam zuhar ki namaz padha rahe the aur 2 raqat ho chuki thi ki ain namaz ki haalat me wahi aa gayi aur huzoor ne apna rukh baitul muqaddas se ferkar kaaba muazzama ki taraf kar liya,is masjid ko masjide qiblatain kaha jaane laga yaani do qiblon waali masjid

📕 Tafseere Nayimi,Jild 2,Safah 5
📕 Seerate Mustafa,Safah 156

*================================*
*Don’t Call Only WhatsApp 9559893468*
*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*
*================================*

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *