Tue. Jun 15th, 2021

👉 *Msg prepared by* 👈
*ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ*
*12/10/1442*

*हिन्दी/hinglish* *बैतुल मुक़द्दस-1*
*================================*
*youtube : No money need for subscribe*

*https://www.youtube.com/channel/UCedqG8o3wtFOEZ60oOaLwzw*

*website : Visit for all ZEBNEWS msgs*

*zebnews.in*
*================================*
*================================*

* दुनिया के जिन शहरों की इज़्ज़तो तअज़ीम की जाती है उनमें यरुशलम यानि बैतुल मुक़द्दस भी है जो मुसलमानों ईसाईओं और यहूदियों के लिए एक जैसा मक़ाम रखता है,यरुशलम का मायने होता है खुदाई हुक़ूमत,इस शहर के बहुत सारे नाम है सबसे पहले इसे जेबस कहा गया फिर बाद में हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम के ज़माने में यरुशलम पुकारा गया लेकिन यहुदिओं ने हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम से मंसूब करने के लिए इसे सिर्फ जेरह कहा और शलम का इज़ाफा क़ब्ल ईसा 2008 एक बादशाह गुज़रा जिसका नाम शेलम था तो उसका नाम जोड़कर इसे यरूशलम लिखा गया और मायने लिखे गए इन्हेरिटेंस ऑफ़ पीस,इसका एक नाम अलक़ुद्स भी है मगर मुसलमानों ने इसे हमेशा बैतुल मुक़द्दस यानि मुतबर्रक घर या बैतुल मक़दिस यानि पाक मक़ाम के नाम से ही पुकारा है,जबकि कअब की एक रिवायत के मुताबिक़ एक नाम इल्या लिखा है जिसके मायने है बैतुल्लाह और एक जगह शाम बिन नूह के बेटे इन्या के नाम पर भी आया है,शोअरा हज़रात कहीं कहीं इसको अलबिलात से भी याद करते हैं इसके अलावा इसे गोल्डन सिटी के नाम से भी मुखातिब किया जाता है क्योंकि सूरज की किरणें जब इसके पत्थरों पर पड़ती है तो पीली रौशनी से जगमगा उठती हैं

यहूदियों ने क़ब्ल ईसा 2000 में जब एक बादशाह को शिकस्त दी तब से उनके लिए ये मुअज़्ज़म हुआ जबकि ईसाईओं के लिए सलीब अल सलबूत इस जगह थी तो उनके लिए ये जगह मुअज़्ज़म हुई मगर मुसलमानों के लिए रोज़े अव्वल से ही ये जगह मुक़द्दस रही थी इसकी बुनियाद अरब के बादशाह सादिक़ मलिक ने रखी थी

इसे अमन का शहर भी कहा जाता था मगर तारीख उठाकर देखो तो पता चलता है कि 3000 साल से ज़्यादा पुराने इस शहर को कभी 3 साल का भी सुकून न मिला,यहां होने वाली लड़ाईयों का तो शुमार ही नहीं किया जा सकता और मरने वालों की गिनती करना भी बहुत मुश्किल है,किताबों में आता है कि 18 मर्तबा इसकी नई तअमीर की गयी है मतलब साफ है कि इतनी ही दफा ये शहर खंडरात में तब्दील हो चुका है,6 मर्तबा मज़हबी तब्दील हो चुके इस शहर को सबसे पहले हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम ने अपना दारुस सल्तनत बनाया था उसके बाद हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम भी यही क़ाबिज़ रहे,रफ्ता रफ्ता अहले बाबुल यहां काबिज़ हुए फिर यहूदी फिर यूनानी बाद में यहूदी फिर काबिज़ हुए उसके बाद रोमियों ने उनसे हथिया लिया और यहुदिओं का यहां आना जाना ही बंद कर दिया गया,बाद में अरब मुसलमानों ने इसे रोमियों से छीना और 450 साल यहां हुकूमत की फिर उसके बाद सलीबी जंगो का सिलसिला शुरू हुआ और अलग अलग क़ौमो की तब्दीली होती रही

ये शहर न तो किसी दरिया के पास है न किनारे पर मगर इसके बावजूद यहां कभी क़हत नहीं पड़ा,पीने के लिए दरियाए जिहून का पानी इस्तेमाल होता था वो भी कार आमद नहीं होता,घरों में चश्मे और हौज़ बनाए गए हैं जिनमें बरसात का पानी जमा होता है और यही पूरे साल काम में आता है,इस शहर में मुसलमानों की बेशुमार अलामात पाई जाती है जिसपर अक्सर ईसाईओं और यहूदियों का क़ब्ज़ा है और बग़ैर गाईड के इस शहर को देख पाना तक़रीबन नामुमकिन है

📕 बैतुल मुक़द्दस,सफह 1-10

* आलाहज़रत फरमाते हैं कि यहां की ज़मीन आसमान से सबसे ज़्यादा क़रीब है क्योंकि इसकी ऊंचाई हर जगह से 18 मील ज़्यादा है

📕 फ़तावा रज़वियह,जिल्द 4,सफह 687

* हदीस शरीफ में है कि बैतुल मुक़द्दस कअबा मुअज़्ज़मा के 40 साल बाद वजूद में आया

📕 बुखारी शरीफ,जिल्द 1,सफह 477

*================================*
*To Be Continued*
*================================*

* Duniya ke jin shahron ki izzato tazeem ki jaati hai unme jerusalem yaani baitul muqaddas bhi hai jo musalmano eesayion aur yahudiyon ke liye ek jaisa maqaam rakhta hai,jerusalem ka maayne hota hai khudayi hukumat,is shahar ke bahut saare naam hai sabse pahle ise jebus kaha gaya phir baad me hazrat daood alaihissalam ke zamane me jerusalem pukara gaya lekin yahudion ne hazrat ibraheem alaihissalam se mansoob karne ke liye ise sirf jereh kaha aur shelm ka izaafa qabl eesa 2008 ek baadshah gura jiska naam shelm tha to uska naam jodkar ise jerusalem likha gaya aur maayne likhe gaye inheritence of peace,iska ek naam alquds bhi hai magar musalmano ne ise hamesha baitul muqaddas yaani mutabarrak ghar ya baitul maqdis yaani paak maqaam ke naam se hi pukaara hai,jabki qa’ab ki ek riwayat ke mutabiq ek naam ilya likha hai jiska maayne hai baitullah aur ek jagah shaam bin nooh ke bete inya ke naam par bhi aaya hai,shora hazraat kahin kahin isko Albilaat se bhi yaad karte hain iske alawa ise golden city ke naam se bhi mukhatib kiya jaata hai kyunki suraj ki kirne jab iske pattharon par padti hai to peeli raushni se jagmaga uthti hai

Yahudiyon ne qabl eesa 2000 me jab ek baadshah ko shikast di tab se unke liye ye muazzam hua jabki eesayion ke liye saleeb al salboot is jagah thi to unke liye ye jagah muazzam thi magar musalmano ke liye roze awwal se hi ye jagah muqaddas rahi thi iski buniyaad arab ke baadshah saadiq maliq ne rakhi thi

Ise aman ka shahar bhi kaha jaata tha magar tareekh uthakar dekhiye to pata chalta hai ki 3000 saal se zyada purane is shahar ko kabhi 3 saal ka bhi sukoon na mila,yahan hone waali ladayion ka to shumaar hi nahin kiya ja sakta aur marne waalo ki ginti karna bhi bahut mushkil hai,kitabon me aata hai ki 18 martaba iski nayi tameer ki gayi hai matlab saaf hai ki itni hi dafa ye shahar khandraat me tabdeel ho chuka hai,6 martaba mazhabi tabdeel ho chuke is shahar ko sabse pahle hazrat daood alaihissalam ne apna darus sultanat banaya tha uske baad hazrat sukeman alaihissalam bhi yahi qaabiz rahe,rafta rafta ahle babul yahan qaabiz hue phir yahudi phir unani baad me yahudi phir qaabiz hue uske baad romiyon ne unse hathiya liya aur yahudion ka yahan aana jaana hi bund kar diya gaya,baad me arab musalmano ne ise romiyon se chheena aur 450 saal yahan hukumat ki phir uske baad saleebi jungo ka silsila shuru hua aur alag alag qaumo ki tabdeeli hoti rahi

Ye shahar na to kisi dariya ke paas hai na kinare par magar iske bawajood yahan kabhi qahat nahin pada,peene ke liye dariyaye jihoon ka paani istemal hota tha wo bhi kaar aamad nahin hota,gharo me chashme aur hauz banaye gaye hain jinme barsaat ka paani jama hota hai aur yahi poore saal kaam me aata hai,is shahar me musalmano ke beshumaar alamat paayi jaati hai jispar aksar eesayion aur yahudiyon ka qabza hai aur bagair guide ke is shahar ko dekh paana taqriban na mumkin hai

📕 Baitul Muqaddas,Safah 1-10

* Aalahazrat farmate hain ki yahan ki zameen aasman se sabse zyada qareeb hai kyunki iski oonchayi har jagha se 18 meel zyada hai

📕 Fatawa Razviyah,Jild 4,Safah 687

* Hadees sharif me hai ki baitul muqaddas kaaba muazzama ke 40 saal baad wajood me aaya

📕 Bukhari Sharif,Jild 1,Safah 477

*================================*
*Don’t Call Only WhatsApp 9559893468*
*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*
*================================*

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *