Tue. Jun 15th, 2021

👉 *Msg prepared by* 👈
*ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ*

*हिन्दी/hinglish*              *तिहत्तर में एक-6*
*================================*

*2.जबरिया* – ये दूसरा फिरका वजूद में आया और इसका अक़ीदा क़दरिया के बिल्कुल मुक़ाबिल था यानि क़दरिया ने जहां इंसान को उसके अमल का खालिक़ो मालिक बना दिया वहीं जबरिया ने उन्हें बिल्कुल महज़ पेड़ और पत्थर की तरह मजबूर माना यानि इंसान अगर कुछ चाहे तब भी वो नहीं कर सकता हालांकि ये अक़ीदा भी सरासर बातिल है क्योंकि इस तरह तो रब पर ये इल्ज़ाम आयेगा कि मआज़ अल्लाह वो ज़ालिम है जो कि हरगिज़ सही नहीं है,क़ुर्आन में मौला तआला इरशाद फरमाता है कि

*कंज़ुल ईमान* – ये बदला है उसका जो तुम्हारे हाथों ने आगे भेजा और अल्लाह बन्दों पर ज़ुल्म नहीं करता

📕 पारा 4,सूरह आले इमरान,आयत 182

*कंज़ुल ईमान* – और फरमा दो कि हक़ तुम्हारे रब की तरफ से है तो जो चाहे ईमान लाये और जो चाहे कुफ्र करे

📕 पारा 15,सूरह कहफ,आयत 29

*ⓩ यानि इंसान जो कुछ करता है उसमे तक़दीर के साथ साथ उसका इरादा भी शामिल होता है और इसी इरादे पर सवाब और अज़ाब का फैसला होता है,इसको युं समझिये कि एक इंसान के ऊपर कोई पेड़ गिर गया या बिजली का तार गिर गया या कहीं से पत्थर गिर गया और वो मर गया तो क्या पेड़ तार और पत्थर को सजा दी जायेगी नहीं बिल्कुल नहीं लेकिन यही काम अगर कोई आदमी करदे मसलन कोई किसी पर पेड़ काटकर गिरा दे या बिजली का तार गिरा दे या पत्थर खींचकर मार दे और वो मर जाये तो अब उस शख्स को यक़ीनन सज़ा दी जायेगी क्योंकि इसमें उसका इरादा शामिल है,यानि सज़ा और जज़ा के लिए इरादे का होना शर्त है क्योंकि अक्सर कुछ ऐसे काम बे इरादा भी हो जाया करते हैं जिसपर सज़ा का हुक्म नहीं लगता है,जैसा कि हदीसे पाक में आता है कि*

*हदीस* – हुज़ूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने फरमाया कि ग़ैर मेहरम के चेहरे पर पहली नज़र माफ है मगर दूसरी पर गुनाह है

📕 मिश्कात,सफह 269

*ⓩ यानि पहली नज़र तो बे इख़्तियार पड़ गयी जिसमें कोई इंसान का कोई इरादा शामिल नहीं था इसलिए माफ है लेकिन जब उसको दोबारा देखा तो अब उसका अपना इरादा भी शामिल हो गया लिहाज़ा अब वो गुनाह में शामिल हो गया,जैसा कि एक और हदीसे पाक है कि*

*हदीस* – हज़रत उमर फारूक़े आज़म रज़ियल्लाहु तआला अन्हु के दौर में एक लड़की के साथ जबरन ज़िना किया गया तो हज़रते उमर फारूक़े आज़म रज़ियल्लाहु तआला अन्हु ने उस शख्स को सज़ा दी और उस लड़की को छोड़ दिया

📕 बुखारी,जिल्द 2,बाबुल इक़राह

*ⓩ चुंकि ज़िना करने में लड़की का इरादा शामिल नहीं था इसलिए वो बे कसूर ठहरी और लड़के का इरादा था इसलिए वो मुजरिम हुआ,तो अब ये कहना कि इंसान हर काम का खुद ही खालिक़ो मालिक है गलत है और ये कहना कि वो महज़ मजबूर है ये भी सरासर गलत है,और हदीसे पाक में इन दोनों फिरकों के बारे में सराहतन ज़िक्र हुआ है*

*हदीस* – हुज़ूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने फरमाया कि मेरी उम्मत के 2 गिरोहों का इस्लाम से कुछ तअल्लुक़ नहीं है मर्जिया (जबरिया) और क़दरिया

📕 मिश्कात,सफह 23

*ⓩ फिरकों में बहुत से वजूद में आकर खत्म भी हो चुके हैं और बहुतेरे पैदा होंगे और उनमें से बहुत का वुजूद हिंदुस्तान में नहीं रहा और बहुत का आने वाले वक़्त में भी नहीं होगा,मगर इस उम्मत पर फितनये दज्जाल के बाद अगर सबसे बड़ा कोई फितना है तो वो है वहाबियों का फितना कि इससे बचकर रहना मुसलमान के लिए हर फर्ज़ से भी बड़ा फर्ज़ है और ये इसलिए कह रहा हूं कि इंसान जब मुसलमान ही नहीं रहेगा तो फर्ज़ का क्या करेगा क्योंकि ईमान चला गया तो सब कुछ चला गया,याद रखिये कि अल्लाह सच्चा अल्लाह का रसूल सच्चा और उनकी बताई हुई सारी बातें सच्ची अब अगर उनकी कुछ बातें हमारी समझ में नहीं आती तो ये हमारी अक़्ल का कुसूर है,क्योंकि ये अक़्ल भी अल्लाह ही ने पैदा फरमाई है तो ये कैसे मुमकिन है कि उसकी पैदा की हुई चीज़ में रब की ज़ातो सिफ़्फ़ात समां जायें,क्या देखते नहीं कि एक ही मर्ज़ को समझने में एक डॉक्टर कुछ कहता है तो दूसरा कुछ कहता है यानि अक़्ल धोखा खा जाती है और क्या देखते नहीं कि कितने पढ़े लिखे एम बी ए और एम सी ए और इंजीनियरिंग और अक़्ल वाले बे रोज़गार घूम रहे हैं यानि उनकी अक़्ल धोखा खाती है और क्या देखते नहीं कि लाखों रुपया बिज़नेस में लगाने के बाद भी बहुतों का नुक्सान होता है यानि अक़्ल धोखा खाती है,तो जब हम दुनियादार होकर दुनिया की बातें समझने में धोखा खा जाते हैं तो दीन की सारी बातें हमारी समझ में कैसे आ सकती है लिहाज़ा इसका सिर्फ एक ही इलाज है कि अल्लाह और उसके महबूब पर तवक्कल रखें कि अगर चे ये बात हमारी समझ में नहीं आ रही है मगर है बिल्कुल सच्ची कि सच्चों ने फरमाया है,ये आखिरी बात है इसको बहुत ग़ौर से पढ़ियेगा कि जो मुसलमान होकर भी दीन की बातों को तभी मानना चाहते हैं जबकि उनकी अक़्ल में आ जाये तो वो गुमराह हो चुके हैं और अगर अब तक गुमराह नहीं हुए हैं आगे चलकर हो जायेंगे ऐसे लोगों का खातिमा ईमान पर होना बहुत मुश्किल है,मौला तआला मुसलमानों को तमाम फितनों से महफूज़ो मामून फरमाये आमीन बिजाहिस सय्यदिल मुरसलीन सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम*

*================================*
*To Be Continued*
*================================*

*2.JABRIYA* – Ye doosra firka wujood me aaya aur iska aqeeda qadriya ke bilkul muqabil tha yaani qadriya ne jahan insaan ko uske amal ka khaaliq o maalik bana diya wahin jabriya ne unhein bilkul mahaz peid aur patthar ki tarah majboor maana yaani insaan agar kuchh chahe tab bhi wo nahin kar sakta halanki ye aqeeda bhi sarasar baatil hai kyunki is tarah to RUB par ye ilzaam aayega ki maaz ALLAH wo zaalim hai jo ki hargiz sahi nahin hai,quran me maula taala irshaad farmata hai ki

*KANZUL IMAAN* – Ye badla hai uska jo tumhare haathon ne aage bheja aur ALLAH bando par zulm nahin karta

📕 Paara 4,surah aale imran,aayat 182

*KANZUL IMAAN* – Aur farma do ki haq tumhare rub ki taraf se hai to jo chahe imaan laaye aur jo chahe kufr kare

📕 Paara 15,surah kahaf,aayat 29

*ⓩ Yaani insaan jo kuchh karta hai usme taqdeer ke saath saath uska iraada bhi shaamil hota hai aur isi iraade par sawab aur azaab ka faisla hota hai,isko yun samajhiye ki ek insaan ke oopar koi peid gir gaya ya bijli ka taar gir gaya ya kahin se patthar gir gaya aur wo mar gaya to kya peid taar aur patthar ko saza di jayegi nahin bilkul nahin lekin yahi kaam koi aadmi karde maslan koi kisi par peid kaakkar gira de ya bijli ka taar gira de ya patthar khinchkar maar de aur wo mar jaaye to ab us shakhs ko yaqinan saza di jayegi kyunki isme uska iraada shaamil hai,yaani saza aur jaza ke liye iraade ka hona shart hai kyunki aksar kuchh aise kaam be iraada bhi ho jaaya karte hain jispar saza ka hukm nahin lagta,jaisa ki hadise paak me aata hai ki*

*HADEES* – Huzoor sallallahu taala alaihi wasallam ne farmaya ki gair mahram ke chehre par pahli nazar maaf hai magar doosri par gunaah hai

📕 Mishkat,safah 269

*ⓩ Yaani pahli nazar to be ikhtiyar pad gayi jisme koi insaan ka koi iraada shamail nahin tha isliye maaf hai lekin jab usko dobara dekha to ab apna iraada bhi shaamil ho gaya lihaza ab wo gunaah me shaamil ho gaya,jaisa ki ek aur hadise paak hai ki*

*HADEES* – Hazrat umar farooqe aazam raziyallahu taala anhu ke daur me ek ladki ke saath jabran zina kiya gaya to hazrate umar farooqe aazam raziyallahu taala anhu ne us shakhs ko saza di aur us ladki ko chhod diya

📕 Bukhari,jild 2,babul iqrah

*ⓩ Chunki zina karne me ladki ka iraada shaamil nahin tha isliye wo be kasoor thahri aur ladke ka iraada tha isliye wo mujrim hua,to ab ye kahna ki insaan har kaam ka khud hi khaaliqo maalik hai galat hai aur ye kahna ki wo mahaz majboor hai ye bhi sarasar galat hai,aur hadise paak me in dono firkon ke baare me sarahatan zikr hua hai*

*HADEES* – Huzoor sallallahu taala alaihi wasallam ne farmaya ki meri ummat ke 2 giroho ka islaam se kuchh taalluq nahin hai marjiya (jabriya) aur qadriya

📕 Mishkat,safah 23

*ⓩ Firkon me bahut se wajood me akaar khatm bhi ho chuke hain aur bahutere paida honge aur unme se bahut ka wujood hindustan me nahin raha aur bahut ka aane waale waqt me bhi nahin hoga,magar is ummat par fitnaye dajjal ke baad agar sabse bada koi fitna hai to wo hai wahabiyon ka fitna ki isse bachkar rahna musalman ke liye har farz se bada farz hai aur ye isliye kah raha hoon ki insaan jab musalman hi nahin rahega to farz ka kya karega kyunki imaan chala gaya to sab kuchh chala gaya,yaad rakhiye ki ALLAH sachcha ALLAH ka Rasool sachcha aur unki batayi huyi saari baatein sachchi ab agar unki kuchh baatein hamari samajh me nahin aati to ye hamari aql ka kusoor hai,kyunki ye aql bhi ALLAH hi ne paida farmayi hai to ye kaise mumkin hai ki uski paida ki huyi cheez me Rub ki zaat o siffat sama jaaye,kya dekhte nahin ki ek hi marz ko samajhne me ek doctor kuchh kahta hai to doosra kuchh kahta hai yaani aql dhokha kha jaati hai aur kya dekhte nahin ki kitne padhe likhe M.B.A aur M.C.A aur engeneering aur aql waale be rozgaar ghoom rahe hain yaani unki aql dhokha khaati hai aur kya dekhte nahin ki laakhon rupya business me lagane ke baad bhi bahuto ka nuksaan hota hai yaani aql dhokha khaati hai,to jab hum duniya daar hokar duniya ki baatein samajhne me dhokha kha jaate hain to deen ki saari baatein hamari samajh me kaise aa sakti hai lihaza iska sirf ek hi ilaaj hai ki ALLAH aur uske MAHBOOB par tawakkal rakhen ki agar che ye baat hamari samajh me nahin aa rahi hai magar hai bilkul sachchi ki sachchon ne farmaya hai,ye aakhiri baat hai isko bahut gaur se padhiyega ki jo musalman hokar bhi deen ki baato ko tabhi maanna chahte ki unki aql me aa jaaye to wo gumrah ho chuke hain aur agar ab tak gumrah nahin hue hain aage chalkar ho jayenge aise logon ka khaatma imaan par hona bahut mushkil hai,Maula taala musalmano ko tamam fitno se mahfoozo mamoon farmaye aameen bijahis sayyadil mursaleen sallallahu taala alaihi wasallam*

*================================*
*Don’t Call Only WhatsApp 9559893468*
*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*
*================================*

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *