Fri. Jul 23rd, 2021

👉 *Msg prepared by* 👈
*ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ*

*हिन्दी/hinglish*                 *तिहत्तर में एक-4*
*================================*

*ⓩ दौरे हाज़ा में एक जमाअत ऐसी भी पाई जाती है जो कि 73 फिरकों वाली हदीसे पाक का पूरा मफहूम ही बदलने पर उतर आई है,जैसा कि खुद मेरे साथ गुज़रा इलाहाबाद में मदरसा गरीब नवाज़ के एक मौलवी साहब हैं उनसे मेरी बात हुई तो कहने लगे कि 72 फिरकों में वहाबी देवबंदी शिया वगैरह शामिल नहीं हैं बल्कि इनके कुफ्र करने से ही ये उम्मते इजाबत से निकलकर उम्मते दावत में शामिल हो गये यानि काफिरों की जमाअत में खड़े हो गए तो मैंने पूछा कि फिर 73 फिरकों में कौन होगा तो बोले इससे मुसलमानों की अंदरूनी जमाअत जैसे क़ादिरी चिश्ती नक़्शबंदी अबुल ओलाई नियाज़ी वारिसी साबरी वग़ैरह मुराद हैं और ये सब के सब जन्नती हैं,मुझे बड़ी हैरत हुई मैंने कहा कि आज तक तो पूरी उम्मते मुस्लिमा यही अक़ीदा रखती है कि 72 फिरकों से मुराद वहाबी देवबंदी वगैरह ही हैं ये आज आपसे एक नई बात सुनने को मिली है तो क्या आज तक हमारे सारे आलिम गलत बयानी कर रहे थे तो कहने लगे कि हमारे उल्मा से इस हदीस को समझने में गलती हुई,खैर मुझे अल्लाह के फज़्ल से इतना इल्म तो था ही कि वो गलत बोल रहे हैं इसलिए मैं वहां से चला आया ये मुआमला 2012 में मेरे साथ पेश आया और उसके बाद से लेकर आज तक कभी उनके पास नहीं गया मगर उनका मुंह बंद करने के लिए मैंने बरैली शरीफ से एक इस्तिफता किया तो वहां से जवाब आया कि ऐसा शख्स गुमराह है और तौबा व तज्दीदे ईमान का हुक्म दिया गया (फतवे के लिए इमेज देखें),जब मैंने इसकी और तहक़ीक़ की तो मुझे पता चला कि ऐसा कहने वाला वो अकेला शख्स नहीं है बल्कि इसके पीछे पूरी एक लॉबी काम कर रही है और इनका मक़सद यही है कि ये खुद तो सुलह कुल्ली टाइप के लोग हैं और कुफ्रो इर्तिदाद की जो तलवार वहाबियों बदअक़ीदों पर लटक रही है उसी तलवार की ज़द में ये लोग खुद भी हैं लिहाज़ा ऐसी सूरत में ये चाहते हैं कि 72 फिरकों की हदीस का इन्कार कर दिया जाये यानि मायने ही बदल दिया जाये ताकि इस सूरत में अगर कोई इनको अहले सुन्नत वल जमाअत से खारिज भी कर देगा तब भी ये अपने आपको 72 फिरकों में गिनकर जन्नती होने का परवाना हासिल कर लेंगे मगर ये शायद भूल गये कि क़ुर्आनो हदीस का जो मायने हमारे अस्लाफ कर गए हैं वो क़यामत तक के लिए हमारे लिए पत्थर की लकीर है और वही हुक्म अल्लाह के नज़दीक भी है लिहाज़ा इनकी अपनी मन घड़न्त बातो से ये अपने आपको बहला तो सकते हैं मगर हमेशा के लिए जहन्नम में जाने से बचा नहीं सकते,इनके लिए बस एक ही रास्ता है या तो फौरन अपने किये पर शर्मिंदा होकर तौबा करें और पूरे तरीके से अक़ायदे अहले सुन्नत पर क़ायम हो जायें वरना जहन्नम में जाने के लिए तैयार रहे,एक और बात बअज़ जाहिल किस्म के लोग कुर्आन की एक आयत पेश करते हैं पहले वो आयत मुलाहज़ा करें*

*कंज़ुल ईमान* – और अल्लाह की रस्सी को मजबूती से थाम लो सब मिलकर और आपस में फट ना जाना (फिरकों में ना बट जाना)

📕 पारा 4,सूरह आले इमरान,आयत 103

*ⓩ इस आयत को पेश करके वो ये बताना चाहते हैं कि फिरके में बटने के लिए मौला तआला ने मना फरमाया है तो जो लोग फिरका फिरका कर रहे हैं वो गलत राह पर हैं तो इसका जवाब ये है कि बेशक मौला तआला ने फिरकों में बटने से मना फरमाया है मगर ये भी बताईये कि ये फिरकों में बाट कौन रहा है आखिर वो कौन लोग हैं जो अलग फिरका बनाकर अपनी अलग रविश इख्तियार करते हैं,हम अहले सुन्नत व जमाअत तो 1400 साल से उसी अक़ीदे पर क़ायम है जो अक़ीदा हमारे नबी सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने हमें दिया और जिसकी तालीम सहाब-ए किराम ताबईने किराम अइम्मये मुजतहिदीन उल्मा-ए कामेलीन हमको देते चले आये हैं हम तो अल्हम्दुलिल्लाह आज भी उसी राह पर चल रहे हैं जिस पर हमारे नबी ने हमको छोड़ा था,तो इस आयत पर अमल करने का सबसे पहला हक़ उन बदअक़ीदों का है जो अहले सुन्नत व जमाअत से अलग होकर एक नया फिरका बनाते हैं सुन्नी तो सिर्फ उस फिरके की निशान देही करता है,ये तो वही बात हो गयी कि “उल्टा चोर कोतवाल को डांटे” मतलब ये कि कुछ हराम खोर सुन्नियों से अलग होकर बातिल अक़ीदों के साथ एक गुमराह कुन जमाअत बना डालते हैं मुसलमानों में तफरका डालते हैं मगर वो गलत नहीं करते लेकिन अगर कोई सुन्नी अपने मुसलमान भाई के ईमान की हिफाज़त के लिए उस बातिल फिरके की पहचान बता दे तो सुन्नी फितने बाज़ हो गया,वाह रे मन्तिक ऐसी अहमकाना और बे सर पैर की बातें तो सिर्फ बदअक़ीदों की डिक्शनरी में ही पाई जाती हैं और कहीं नहीं मिलती*

*हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम*
*वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता*

*================================*
*To Be Continued*
*================================*

*ⓩ Daure haaza me ek jamaat aisi bhi paayi jaati hai jo ki 73 firkon waali hadise paak ka poora mafhoom hi badalne par utar aayi hai,jaisa ki khud mere saath guzra Allahabad me madarsa gareeb nawaz ke maulvi sahab hain unse meri baat huyi to kahne lage ki 72 firkon me wahabi devbandi shiya wagairah shaamil nahin hain balki inke kufr karne se hi ye ummate ijabat se nikalkar ummate daawat me shaamil ho gaye yaani kaafiron ki jamaat me khade ho gaye to maine poochha ki phir 73 firkon me kaun hoga to bole isse musalmano ki andruni jamaat jaise qadiri chishty naqsh bandi abul olayi niyazi warisi saabri wagairah muraad hain aur ye sab ke sab jannati hain,mujhe badi hairat huyi maine kaha ki aaj tak to poori ummate muslima yahi aqeeda rakhti hai ki 72 firkon se muraad wahabi devbandi wagairah hi hain ye aaj aapse ek nayi baat sunne ko mili hai to kya aaj tak hamare saare aalim galat bayani kar rahe the to kahne lage ki hamare ulma se is hadees ko samajhne me galti huyi,khair mujhe to ALLAH ke fazl se itna ilm to tha hi ki wo galat bol rahe hain isliye main wahan se chala aaya ye muaamla 2012 me mere saath pesh aaya aur uske baad se lekar aaj tak kabhi unke paas nahin gaya magar unka munh bund karne ke liye maine baraily sharif se ek istifta kiya to wahan se jawab aaya ki aisa shakhs gumrah hai aur tauba wa tajdeede imaan ka hukm diya gaya (Fatwe ke liye image dekhen),jab maine iski aur tahqeeq ki to mujhe pata chala ki aisa kahne waala wo akela shakhs nahin hai balki iske peechhe poori ek lobby kaam kar rahi hai aur inka maqsad yahi hai ki ye khud to sulah kulli type ke log hain aur kufro irtidaad ki jo talwar wahabiyon bad aqeedo par latak rahi hai usi talwar ki zad me ye log khud bhi hain lihaza aisi soorat me ye chahte hain ki 72 firkon ki hadees ka inkaar kar diya jaaye yaani maayne hi badal diya jaaye taaki is soorat me agar koi inko ahle sunnat wal jamaat se kharij bhi kar dega tab bhi ye apne aapko 72 firkon me ginkar jannati hone ka parwana haasil kar lenge magar ye shayad bhool gaye ki qurano hadees ka jo maayne hamare aslaaf kar gaye hain wo qayamat tak ke liye hamare liye patthar ki laqeer hai aur wahi hukm ALLAH ke nazdeeq bhi hai lihaza inki apni man ghadant baato se ye apne aapko bahla to sakte hain magar hamesha ke liye jahannam me jaane se bacha nahin sakte,inke liye bas ek hi raasta hai ya to fauran apne kiye par sharminda hokar tauba karen aur poore tariqe se aqayde ahle sunnat par qaayam ho jaayein warna jahannam me jaane ke liye taiyar rahein,ek aur baat baaz jaahil kism ke log quran ki ek aayat pesh karte hain pahle wo aayat mulahza karen*

*KANZUL IMAAN* – Aur ALLAH ki rassi ko mazbooti se thaam lo sab milkar aur aapas me phat na jaana (firkon me na bat jaana)

📕 Paara 4,surah aale imran,aayat 103

*ⓩ Is aayat ko pesh karke wo ye batana chahte hain ki firke me baatne ke liye maula taala ne mana farmaya hai to jo log firka firka kar rahe hain wo galat raah par hain to iska jawab ye hai ki beshak maula taala ne firkon me batne se mana farmaya hai magar ye bhi bataiye ki ye firkon me baat kaun raha hai aakhir wo kaun log hain jo alag firka banakar apni alag rawish ikhtiyar karte hain,hum ahle sunnat wa jamaat to 1400 saal se usi aqeede par qaayam hai jo aqeeda hamare nabi sallallahu taala alaihi wasallam ne hamen diya aur jiski taleem sahabaye kiram tabayine kiram ayimmaye mutahideen ulmaye kaameleen humko dete chale aaye hain hum to ALHAMDULILLAH aaj bhi usi raah par chal rahe hain jispar hamare nabi ne humko chhoda tha,to is aayat par amal karne ka sabse pahla haq un bad aqeedo ka hai jo ahle sunnat wa jamaat se alag hokar ek naya firka banate hain sunni to sirf us firke ki nishan dehi karata hai matlab,ye to wahi baat ho gayi ki “ulta chor kotwal ko daate” matlab ye ki kuchh haraam khor sunniyon se alag hokar baatil aqeedo ke saath ek gumrah kun jamaat bana daalte hain musalmano me tafarqa daalte hain magar wo galat nahin karte lekin agar koi sunni apne musalman bhai ke imaan ki hifazat ke liye us baatil firke ki pahchaan bata de to sunni fitna baaz ho gaya,aisi ahmakana aur be sar pair ki baatein to sirf bad aqeedo ki dictionary me hi paayi jaati hain aur kahin nahin milti*

*Hum aah bhi karte hain to ho jaate hain badnaam*
*Wo qatl bhi karte hain to charcha nahin hota*

*================================*

*Don’t Call Only WhatsApp 9559893468*
*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*

*================================*

FATWA

 

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *