Fri. Jul 23rd, 2021

👉 *Msg prepared by* 👈
*ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ*

*हिन्दी/hinglish*                *तिहत्तर में एक-1*
*================================*

*हदीस* – हज़रत इब्ने उमर रज़ियल्लाहु तआला अन्हु से रिवायत है कि रसूले करीम सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने फरमाया कि मेरी उम्मत पर एक ज़माना ज़रूर ऐसा आयेगा जैसा कि बनी इस्राईल पर आया था बिल्कुल हु बहु एक दूसरे के मुताबिक,यहां तक कि बनी इस्राईल में से अगर किसी ने अपनी मां के साथ अलानिया बदफेअली की होगी तो मेरी उम्मत में ज़रूर कोई होगा जो ऐसा करेगा और बनी इस्राईल 72 मज़हबो में बट गए थे और मेरी उम्मत 73 मज़हबो में बट जायेगी उनमें एक मज़हब वालों के सिवा बाकी तमाम मज़ाहिब वाले नारी और जहन्नमी होंगे सहाबये किराम ने अर्ज़ किया या रसूल अल्लाह सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम वह एक मज़हब वाले कौन होंगे तो हुज़ूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने फरमाया कि वह लोग इसी मज़हबो मिल्लत पर कायम रहेंगे जिस पर मैं हूं और मेरे सहाबा हैं

📕 तिर्मिज़ी,हदीस नं 171
📕 अबु दाऊद,हदीस नं 4579
📕 इब्ने माजा,सफह 287
📕 मिश्कात,जिल्द 1,सफह 30

*तशरीह* – हज़रत शेख अब्दुल हक़ मुहद्दिस देहलवी रज़ियल्लाहु तआला अन्हु इस हदीस शरीफ के तहत फरमाते हैं कि “निजात पाने वाला फिरक़ा अहले सुन्नत व जमाअत का है अगर ऐतराज़ करे कि कैसे नाजिया फिरक़ा अहले सुन्नत व जमाअत है और यही सीधी राह है और खुदाये तआला तक पहुंचाने वाली है और दूसरे सारे रास्ते जहन्नम के रास्ते हैं जबकि हर फिरक़ा दावा करता है कि वो राहे रास्त पर है और उसका मज़हब हक है तो इसका जवाब ये है कि ये ऐसी बात नहीं जो सिर्फ दावे से साबित हो जाये बल्कि इसके लिए ठोस दलील चाहिये,और अहले सुन्नत व जमाअत की हक़्क़ानियत की दलील ये है कि ये दीने इस्लाम हुज़ूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम से मन्क़ूल होकर हम तक पहुंचा है और अक़ायदे इस्लाम मालूम करने के लिए सिर्फ अक़्ल का ज़रिया काफी नहीं है,जबकि हमें अखबारे मुतवातिर से मालूम हुआ और आसारे सहाबा और अहादीसे करीमा की तलाश से यक़ीन हुआ कि सल्फ सालेहीन यानि सहाबा ताबईन और उनके बाद के तमाम बुज़ुर्गाने दीन इसी अक़ीदा और इसी तरीक़े पर रहे और अक़्वाले मज़ाहिब में बिदअत व नफसानियत ज़मानये अव्वल के बाद पैदा हुई,सहाब-ए किराम और सल्फ मुताक़द्देमीन यानि ताबईन तबअ ताबईन व मुज्तहेदीन में से कोई भी उस नए मज़हब पर नहीं थे उससे बेज़ार थे बल्कि नए मज़हब के ज़ाहिर होने पर मुहब्बत और उठने बैठने का जो लगाओ पहले क़ौम के साथ था वो तोड़ लिया और ज़बानो क़लम से उसका रद्द फरमाया

सियाह सित्तह व हदीस की दूसरी मुसतनद किताबों की जिन पर अहकामे इस्लाम का मदार व मबनी हुआ उसके मुहद्देसीन और हनफी शाफई मालिकी व हंबली के फुक़्हा व अइम्मा और उनके अलावा दूसरे उल्मा जो उनके तबक़े में थे सब इसी मज़हबे अहले सुन्नत व जमाअत पर क़ायम थे,इसके अलावा अशारिया व मातुरीदिया जो उसूले कलाम के अइम्मा हैं उन्होंने भी सल्फ के मज़हब यानि अहले सुन्नत व जमाअत की ताईद व हिमायत फरमाई और दलायले अक़्लिया से इसे साबित फरमाया और जिन बातों पर सुन्नते रसूल सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम और इजमाये सल्फ सालेहीन जारी रहा उसको ठोस क़रार दिया इसीलिए अशारिया और मातुरीदिया का नाम अहले सुन्नत व जमाअत पड़ा,अगर चे ये नाम नया है मगर मज़हबो एतेक़ाद उनका पुराना है और उनका तरीक़ा अहादीसे नब्वी सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम की इत्तेबा और सल्फ सालेहीन के अक़वाल व आमाल की इक़्तिदा करना है,सूफियाये किराम की निहायत क़ाबिल और एतेमाद किताब तअर्रुफ है जिसके बारे में सय्यदना शेख शहाब उद्दीन सुहरवर्दी रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फरमाते हैं कि अगर तअर्रुफ किताब ना होती तो हम लोग मसायल तसव्वुफ से नावाकिफ रह जाते,इस किताब में सूफियाये किराम के जो इजमाली अक़ायद बयान किये गए हैं वो सबके सब बिला कम वा कास्त अहले सुन्नत ही के अक़ायद हैं,हमारे इस बयान की सच्चाई ये है कि हदीस-तफ़्सीर-कलाम-फिक़ह-तसव्वुफ-सैर और तारीखे मोअतबर की किताबें जो भी मशरिक से लेकर मग़रिब तक के इलाके में मशहूर व मारूफ हैं उन सबको जमा किया जाये और उनकी छान-बीन की जाये और मुखालेफीन भी अपनी किताबें लायें ताकि आशकार हो जाये की हक़ीक़त हाल क्या है,खुलासये कलाम ये कि दीने इस्लाम में सवादे आज़म मज़हबे अहले सुन्नत व जमाअत ही है

📕 अशअतुल लमआत,जिल्द 1,सफह 140

*ⓩ अब आज जो लोग सुन्नियों से ये कहते नज़र आते हैं कि क्यों फिरकों में मुसलमानो को उलझा रखा है दर असल वो जाहिल अहमक़ और बे ईमान किस्म के लोग हैं वरना ऐसी आफताब रौशन हदीस से रद्द गरदानी ना करते,ये फिरका सुन्नी नहीं बनाते बल्कि कुछ बे ईमान अहले सुन्नत व जमाअत से निकलकर एक अलग गुमराह जमाअत बना डालते हैं सुन्नी उसी की निशान देही कराता है,और फिरक़ा बनना तो हुज़ूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के ज़मानये मुबारक में ही शुरू हो गया था कुछ बे ईमान मुसलमानों से अलग एक जमाअत बना चुके थे जिसे मुनाफिक़ कहा गया और उन मुनाफिक़ों के हक़ में कई आयतें नाज़िल हुई और कई हदीसे पाक मरवी है*

*================================*
*To Be Continued*
*================================*

*HADEES* – Hazrat ibne umar raziyallahu taala anhu se riwayat hai ki huzoor sallallahu taala alaihi wasallam ne farmaya ki meri ummat par ek zamana zaroor aisa aayega jaisa ki bani israyeel par aaya tha bilkul hu bahu ek doosre ke mutabik,yahan tak ki agar kisi ne bani israyeel me apni maa ke saath alaniya bad feily ki hogi to meri ummat me bhi zaroor koi hoga jo aisa karega aur bani israyeel 72 mazhabo me bat gaye the aur meri ummat 73 mazhabo me bat jayegi unme ek mazhab waalo ke siwa baaki tamam mazahib waale naari aur jahannami honge,sahabaye kiram ne arz kiya ki ya Rasool ALLAH sallallahu taala alaihi wasallam wo ek mazhab waale kaun log honge to huzoor sallallahu taala alaihi wasallam ne farmaya ki wo log isi mazhabo millat par qaayam rahenge jis par main hoon aur mere sahaba hain

📕 Tirmizi,hadees 171
📕 Abu daood,hadees 4579
📕 Ibne maaja,safah 287
📕 Mishkat,jild 1,safah 30

*TASHREEH* – Hazrat shaikh abdul haq muhaddis dehlavi raziyallahu taala anhu is hadees sharif ke tahat farmate hain ki “Nijaat paane waala firqa ahle sunnat wa jamaat ka hai agar aitraaz kare ki kaise naajiya firqa ahle sunnat wa jamaat hai aur yahi seedhi raah hai aur khudaye taala tak pahunchane waali hai aur doosre saare raaste jahannam ke raaste hain jabki har firqa daawa karta hai ki wo raahe raast par hai aur uska mazhab haq hai to iska jawab ye hai ki ye aisi baat nahin jo sirf daawe se saabit ho jaaye balki iske liye thos daleel chahiye,aur ahle sunnat wa jamaat ki haqqaniyat ki daleel ye hai ki ye deene islam huzoor sallallahu taala alaihi wasallam se manqool hokar hum tak pahuncha hai aur aqayade islaam maloom karne ke liye sirf aql ka zariya kaafi nahin hai,jabki hamein akhbare mutawatira se maloom hua aur aasare sahaba aur ahadeese karima ki talaash se yaqeen hua ki salf saaleheen yaani sahaba tabayeen aur unke baad ke tamam buzurgane deen isi aqeeda aur isi tareeqe par rahein aur aqwaale mazahib me bid’at wa nafsaniyat zamanaye awwal ke baad paida huyi,sahabaye kiraam aur salf mutaqaddemeen yaani tabayeen taba tabayeen wa mujtahedeen me se koi bhi us naye mazhab par nahin tha usse bezaar the balki naye mazhab ke zaahir hone par muhabbat aur uthne baithne ka jo lagao pahle qaum ke saath tha wo tod liya aur zabaano qalam se uska radd farmaya

Siyah sitta wa hadees ki doosri musnatad kitabon ki jin par ahkaame islaam ka madaar wa mabni hua uske muhaddeseen aur hanfi shafayi maaliki wa hambli ke fuqha wa ayimma aur unke alawa doosre ulma jo unke tabqe me the sab isi mazhabe ahle sunnat wa jamaat par qaayam the,iske alawa ashariya wa maturidiya jo usoole kalaam ki ayimma hain unhone bhi salf ke mazhab yaani ahle sunnat wa jamaat ki tayeed wa himayat farmayi aur dalayle aqliya se ise saabit farmaya aur jin baaton par sunnate rasool sallallahu taala alaihi wasallam aur ijmaye salf saaleheen jaari raha usko thos qaraar diya isiliye ashariya aur maturidiya ka naam ahle sunnat wa jamaat pada,agar che ye naam naya hai magar mazhabo eteqaad unka puraana hai aur unka tariqa ahadeese nabwi sallallahu taala alaihi wasallam ki itteba aur salf saaleheen ki aqwaal wa aamaal ki iqtida karna hai,sufiyaye kiraam ki nihayat qaabil aur etemaad kitab Ta’arruf hai jiske baare me sayyadna shaikh sahab uddin suharwardi raziyallahu taala anhu farmate hain ki agar Ta’arruf kitab na hoti to hum log masayle tasawwuf se nawaaqif rah jaate,is kitab me sufiyaye kiraam ke jo ijmaali aqaayad bayaan kiye gaye hain wo sabke sab bila kam wa kaast ahle sunnat hi ke aqayad hain,hamare is bayaan ki sachchai ye hai ki hadees-tafseer-kalaam-fiqah-tasawwuf-sair aur tareekhe motabra ki kitabein jo bhi mashrik se lekar maghrib tak ke ilaaqe me mashhoor wa maroof hain un sabko jama kiya jaaye aur unki chaan been ki jaaye aur mukhalefeen bhi apni kitabein laayein taaki aashkaar ho jaaye ki haqiqat haal kya hai,khulasaye kalaam ye ki deene islaam me sawade aazam mazhabe ahle sunnat wa jamaat hi hai

📕 Ashatul lam’aat,jild 1,safah 140

*ⓩ Ab aaj jo log sunniyon se ye kahte nazar aate hain ki kyun firkon me musalmano ko uljha rakha hai dar asal wo jaahil ahmaq aur be imaan kism ke log hain warna aisi aaftab raushan hadees se radd gardaani na karte,ye firka sunni nahin banate balki kuchh be imaan ahle sunnat wa jamaat se nikalkar ek alag gumraah jamaat bana daalte hain suuni usi ki nishaan dehi karta hai,aur firqa banna to huzoor sallallahu taala alaihi wasallam ke zamane mubarak me hi shuru ho gaya tha kuchh be imaan musalmano se alag ek jamaat bana chuke the jise munafiq kaha gaya aur un munafiqon ke haq me kayi aaytein naazil huyi aur kayi hadise paak marwi hai*

*================================*
*Don’t Call Only WhatsApp 9559893468*
*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*
*================================*

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *